शुक्रवार, 22 जुलाई 2011

रविवार, 13 मार्च 2011



मैंने तुम्हें
पाकर खोया
और खोकर भी पा लिया.
पर मैं 
समझ नहीं पा रहा
मैंने तुम्हें
कितना खोया
और कितना पाया.

गुरुवार, 2 सितंबर 2010

बंटवारा

पहले धरती 
फिर आकाश 
अब ईश्वर भी 
सब यहाँ 
बंटा हुआ. 
हर सपना 
हर आशा 
हर सच 
सब बंटा हुआ. 
इन्सान
रिश्ते 
भाव 
सब बिखरे-बिखरे. 
मैं - तुम 
और यहाँ - वहाँ की 
जद्दोजहद में 
बंटने लगी है अब 
सूखे होंठों की प्यास 
आँखों की आस 
और 
मन का विश्वास 
अब तो 
तुमने 
मैंने 
मिलकर 
रोटी और पानी के लिए 
बाँट दिया 
रोटी और पानी को. 

गुरुवार, 29 जुलाई 2010

पिता


याद कर रहा हूँ मैं 
उस भारी-भरकम सी आवाज़ को 
जिसे सुन नहीं रहता था कोई संशय 
और कभी-कभी जिसने 
लगाया था अंकुश मेरी अति चंचलता पर. 
याद आई हैं मुझे 
वो मोटी, खुरदरी-सी ऊँगलियाँ 
अहसास था जिनमे 
पूर्णता का. 
उनकी एक छुअन से ही 
हमेशा मेरा डर 
होता रहा दूर. 
महसूस करता हूँ मैं 
उन भारी से क़दमों की आहट को 
जो चलते थे जब मेरे साथ 
तब मेरे लिए 
हो जाती थी समतल 
ऊबड़-खाबड़ जमीन. 
दिख रहीं हैं मुझे 
वो हल्का-सा पीलापन लिए 
वृद्ध हो चुकी आँखें 
जो दिखाती थीं, उस घने काले बदल के पीछे 
छुपी हुई है, एक चांदी की उजली किरण 
जब देखता हूँ इन चमकते 
आसमानी तारों को 
फीके लगते हैं मुझे 
क्योंकि, मोतियों से पूर्ण होने पर भी 
इस सीप में सदा छाया रहता है, सूनापन. 
इस विशाल सीप से 
नहीं निकल पाते कभी, नेह के मोती. 
सोचता हूँ 
वरदान में नचिकेता ने 
यों ही नहीं माँगा ये सब 
क्योंकि मुक्ति सुख का नाम है 
और इससे बड़ा सुख 
नहीं है किसी दुसरे लोक में. 
एक विशालता, और सारा सुख जगती का 
समाया रहता है, 
पिता के ह्रदय में.  
दैनिक हिन्दुस्तान में प्रकाशित 

हिन्दी में लिखिए