शुक्रवार, 22 जुलाई 2011

रविवार, 13 मार्च 2011



मैंने तुम्हें
पाकर खोया
और खोकर भी पा लिया.
पर मैं 
समझ नहीं पा रहा
मैंने तुम्हें
कितना खोया
और कितना पाया.

हिन्दी में लिखिए