शुक्रवार, 23 अप्रैल 2010

निशा

उन्हें मित्र कहूं या अपनी वरिष्ठ सहपाठी...सहयोगी... कुछ समझ में नहीं आता.....शायद इस बारे में कभी सोचा नहीं...या फिर सोचने कि जरुरत ही नहीं पड़ी.....मुझसे बहुत बार कविताये सुनने कि ख्वाहिश जाहिर कि लेकिन यह कभी संयोगवश संभव नहीं हो पाया....मेरे ब्लॉग पर कविताये पढ़ी...और भी बहुत सारे ब्लॉग देखे...पढ़े....उसके मन में भी ब्लॉग बनाने कि इच्छा थी लेकिन पहाड़ जैसा प्रश्न सामने था....'क्या लिखूं'.
           आज अचानक ही उनका ब्लॉग देखता हूँ और चार पोस्ट आँखों के सामने छलक पड़ती हैं...
        क्या कुछ लिखा है.. अच्छा है या नहीं....आप खुद देखें और इस 'छोटी सी बच्ची'  (शायद ये शब्द उपयुक्त है) को देखें कि वह कितनी बड़ी हो गई है....
www.shyamanisha.blogspot.com


7 टिप्‍पणियां:

Nisha ने कहा…

ha ha ha... aapne theek kha hai mahodaye parantu ek prashan aur bhi tha k jo likha hua hai use post krne ki himmat kaise kru..blog pr daalne ki ichcha vaastav me bhut dino se thi..bs himmat hi nahi ho rhi thi.. vaise aapke is protsahan k liye bhut bhut dhanyavaad..

ई-गुरु राजीव ने कहा…

हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

शुभकामनाएं !


"टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

Udan Tashtari ने कहा…

हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है. नियमित लेखन के लिए मेरी हार्दिक शुभकामनाऐं.

Nisha ने कहा…

aap dono ka dil se dhanayavaad.. parantu yadi aapne mera blog pdha hai to kripya meri kavitaaon k baare me bhi mujhe batayen..

Dimpal Maheshwari ने कहा…

आप हिंदी में लिखते हैं। अच्छा लगता है। मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं..........हिंदी ब्लॉग जगत में आपका स्वागत हैं.....बधाई स्वीकार करें.....हमारे ब्लॉग पर आकर अपने विचार प्रस्तुत करें.....|

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

जयराम “विप्लव” { jayram"viplav" } ने कहा…

कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

कलम के पुजारी अगर सो गये तो

ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

हिन्दी में लिखिए